सिर्फ अश्क-ओ-तबस्सुम में उलझे रहे, 
हमने देखा नहीं ज़िन्दगी की तरफ.

Related Tabssum Shayari :