Jaun Eliya Nazm

फारेहा निगारिना, तुमने मुझको लिखा है
"मेरे ख़त जला दीजे ! 
मुझको फ़िक्र रहती है !
आप उन्हें गँवा दीजे !
आपका कोई साथी, देख ले तो क्या होगा !
देखिये! मैं कहती हूँ ! ये बहुत बुरा होगा !"
 
मैं भी कुछ कहूँ तुमसे, 
फारेहा निगारिना
ए बनाजुकी मीना 
इत्र बेज नसरीना
रश्क-ए-सर्ब-ए-सिरमीना 
 
मैं तुम्हारे हर ख़त को लौह-ए-दिल समझता हूँ !
लौह-ए-दिल जला दूं क्या ?
जो भी सत्र है इनकी, कहकशां है रिश्तों की
कहकशां लुटा दूँ क्या ?
जो भी हर्फ़ है इनका, नक्श-ए-जान है जनानां
नक्श-ए-जान मिटा दूँ क्या ?
है सवाद-ए-बीनाई, इनका जो भी नुक्ता है
मैं उसे गंवा दूँ क्या ?
लौह-ए-दिल जला दूँ क्या ?
कहकशां लुटा दूँ क्या ?
नक्श-ए-जान मिटा दूँ क्या ?
 
मुझको लिख के ख़त जानम
अपने ध्यान में शायद
ख्वाब ख्वाब ज़ज्बों के 
ख्वाब ख्वाब लम्हों में 
यूँ ही बेख्यालाना 
जुर्म कर गयी हो तुम
और ख्याल आने पर 
उस से डर गयी हो तुम
 
जुर्म के तसव्वुर में 
गर ये ख़त लिखे तुमने
फिर तो मेरी राय में
जुर्म ही किये तुमने
 
 
जुर्म क्यूँ किये जाएँ ?
ख़त ही क्यूँ लिखे जाएँ ?
 

 

अजब था उसकी दिलज़ारी का अन्दाज़ 
वो बरसों बाद जब मुझ से मिला है
भला मैं पूछता उससे तो कैसे
मताए-जां तुम्हारा नाम क्या है?

साल-हा-साल और एक लम्हा 
कोई भी तो न इनमें बल आया
खुद ही एक दर पे मैंने दस्तक दी
खुद ही लड़का सा मैं निकल आया

दौर-ए-वाबस्तगी गुज़ार के मैं
अहद-ए-वाबस्तगी को भूल गया
यानी तुम वो हो, वाकई, हद है 
मैं तो सचमुच सभी को भूल गया

रिश्ता-ए-दिल तेरे ज़माने में 
रस्म ही क्या निबाहनी होती 
मुस्कुराए हम उससे मिलते वक्त
रो न पड़ते अगर खुशी होती 

दिल में जिनका निशान भी न रहा
क्यूं न चेहरों पे अब वो रंग खिलें 
अब तो खाली है रूह, जज़्बों से
अब भी क्या हम तपाक से न मिलें 

शर्म, दहशत, झिझक, परेशानी 
नाज़ से काम क्यों नहीं लेतीं 
आप, वो, जी, मगर ये सब क्या है
तुम मेरा नाम क्यों नहीं लेतीं