वो राम की खिचड़ी भी खाता है, 
रहीम की खीर भी खाता है, 
वो भूखा है जनाब उसे, 
कहाँ मजहब समझ आता है।

Related Garib Shayari :