वो जिसकी रोशनी कच्चे घरों तक भी पहुँचती है, 
न वो सूरज निकलता है, न अपने दिन बदलते हैं।

Related Garib Shayari :