रुखी रोटी को भी बाँट कर खाते हुये देखा मैंने, 
सड़क किनारे वो भिखारी शहंशाह निकला।

Related Garib Shayari :