कभी आंसू कभी ख़ुशी बेची हम गरीबों ने बेकसी बेची,

चंद सांसे खरीदने के लिए रोज थोड़ी सी जिन्दगी बेची

Related Garib Shayari :