मत पूछ ज़िन्दगी कैसे गुजरती है तन्हाई में, 
आँखों से बरसते हैं आँसू उनकी जुदाई में, 
न जाने किस जुर्म की सजा मिली है मुझे, 
बहुत रोता है दिल मेरा उनकी बेवफाई में।

Related Dard Shayari :