आत्महत्या की चिता पर देखकर किसान को 
नींद कैसे आ रही हैं देश के प्रधान को.

Related Politics Shayari :