क्या तंग हम सितमज़दगां का जहान है 
जिस में कि एक बैज़ा-ए-मोर आसमान है

है कायनात को हरकत तेरे ज़ौक़ से
परतव से आफ़ताब के ज़ररे में जान है

हालांकिह है यह सीली-ए ख़ारा से लालह रनग
ग़ाफ़िल को मेरे शीशे पह मै का गुमान है

की उस ने गरम सीनह-ए अहल-ए हवस में जा
आवे न कयूं पसनद कि ठनडा मकान है

क्या ख़ूब तुम ने ग़ैर को बोसह नहीं दिया
बस चुप रहो हमारे भी मुंह में ज़बान है

बैठा है जो कि सायह-ए दीवार-ए यार में
फ़रमां-रवा-ए किशवर-ए हिनदूसतान है

हस्ती का ए'तिबार भी ग़म ने मिटा दिया
किस से कहूं कि दाग़ जिगर का निशान है

है बारे ए'तिमाद-ए वफ़ा-दारी इस क़दर
ग़ालिब हम इस में ख़वुश हैं कि ना-मिहरबान है

Related Mirza Ghalib Ghazal/Nazm :

देख कर दर-पर्दा गर्म-ए-दामन-अफ़्शानी मुझे 
कर गई वाबस्ता-ए-तन मेरी उर्यानी मुझे 
 
बन गया तेग़-ए-निगाह-ए-यार का संग-ए-फ़साँ 
मरहबा मैं क्या मुबारक है गिराँ-जानी मुझे

क्यूँ न हो बे-इल्तिफ़ाती उस की ख़ातिर जम्अ है
जानता है महव-ए-पुर्सिश-हा-ए-पिन्हानी मुझे

मेरे ग़म-ख़ाने की क़िस्मत जब रक़म होने लगी
लिख दिया मिन-जुमला-ए-असबाब-ए-वीरानी मुझे

बद-गुमाँ होता है वो काफ़िर न होता काश के
इस क़दर ज़ौक़-ए-नवा-ए-मुर्ग़-ए-बुस्तानी मुझे

वाए वाँ भी शोर-ए-महशर ने न दम लेने दिया
ले गया था गोर में ज़ौक़-ए-तन-आसानी मुझे

वादा आने का वफ़ा कीजे ये क्या अंदाज़ है
तुम ने क्यूँ सौंपी है मेरे घर की दरबानी मुझे

हाँ नशात-ए-आमद-ए-फ़स्ल-ए-बहारी वाह वाह
फिर हुआ है ताज़ा सौदा-ए-ग़ज़ल-ख़्वानी मुझे

दी मिरे भाई को हक़ ने अज़-सर-ए-नौ ज़िंदगी
मीरज़ा यूसुफ़ है ग़ालिब यूसुफ़-ए-सानी मुझे

कहते तो हो तुम सब कि बुत-ए-ग़ालिया-मू आए 
यक मरतबा घबरा के कहो कोई कि वो आए 
  
हूँ कशमकश-ए-नज़ा में हाँ जज़्ब-ए-मोहब्बत 
कुछ कह न सकूँ पर वो मिरे पूछने को आए

है साइक़ा-ओ-शोला-ओ-सीमाब का आलम
आना ही समझ में मिरी आता नहीं गो आए

ज़ाहिर है कि घबरा के न भागेंगे नकीरें
हां मुंह से मगर बादा-ए-दोशीना की बो आए

जललाद से डरते हैं न वाइज़ से झगड़ते
हम समझे हुए हैं उसे जिस भेस में जो आए

हां अहल-ए-तलब कौन सुने ताना-ए-ना-याफ़त
देखा कि वह मिलता नहीं अपने ही को खो आए

अपना नहीं वह शेवह कि आराम से बैठें
उस दर पह नहीं बार तो क`बे ही को हो आए

की हम-नफ़सों ने असर-ए गिरयह में तक़रीर
अचछे रहे आप उस से मगर मुझ को डुबो आए

उस अनजुमन-ए नाज़ की कया बात है ग़ालिब
हम भी गए वां और तिरी तक़दीर को रो आए

जुनूँ की दस्त-गीरी किस से हो गर हो न उर्यानी 
गरेबाँ-चाक का हक़ हो गया है मेरी गर्दन पर 
 
बा-रंग-ए-कागज़-ए-आतिश-ज़दा नै-रंग-ए-बेताबी
हज़ार आईना दिल बाँधे है बाल-ए-यक-तपीदन पर

फ़लक से हम को ऐश-ए-रफ़्ता का क्या क्या तक़ाज़ा है
मता-ए-बुर्दा को समझे हुए हैं क़र्ज़ रहज़न पर

हम और वो बे-सबब रंज-आशना दुश्मन कि रखता है
शुआ-ए-मेहर से तोहमत निगह की चश्म-ए-रौज़न पर

फ़ना को सौंप गर मुश्ताक़ है अपनी हक़ीक़त का
फ़रोग़-ए-ताला-ए-ख़ाशाक है मौक़ूफ़ गुलख़न पर

असद बिस्मिल है किस अंदाज़ का क़ातिल से कहता है
कि मश्क़-ए-नाज़ कर ख़ून-ए-दो-आलम मेरी गर्दन पर

फ़ुसून-ए-यक-दिली है लज़्ज़त-ए-बेदाद दुश्मन पर
कि वजह-ए-बर्क़ ज्यूँ परवाना बाल-अफ़्शाँ है ख़िर्मन पर

तकल्लुफ़ ख़ार-ख़ार-ए-इल्तिमास-ए-बे-क़ारारी है
कि रिश्ता बाँधता है पैरहन अंगुश्त-ए-सोज़न पर

ज़माना सख़्त कम-आज़ार है ब-जान-ए-असद 
वगरना हम तो तवक़्क़ो ज़्यादा रखते हैं 
    
तन-ए-ब-बंद-ए-हवस दर नदादा रखते हैं 
दिल-ए-ज़-कार-ए-जहाँ ऊफ़्तादा रखते हैं

तमीज़-ए-ज़िश्ती-ओ-नेकी में लाख बातें हैं
ब-अक्स-ए-आइना यक-फ़र्द-ए-सादा रखते हैं

ब-रंग-ए-साया हमें बंदगी में है तस्लीम
कि दाग़-ए-दिल ब-जाबीन-ए-कुशादा रखते हैं

ब-ज़ाहिदाँ रग-ए-गर्दन है रिश्ता-ए-ज़ुन्नार
सर-ए-ब-पा-ए-बुत-ए-ना-निहादा रखते हैं

मुआफ़-ए-बे-हूदा-गोई हैं नासेहान-ए-अज़ीज़
दिल-ए-ब-दस्त-ए-निगारे नदादा रखते हैं

ब-रंग-ए-सब्ज़ा अज़ीज़ान-ए-बद-ज़बान यक-दस्त
हज़ार तेग़-ए-ब-ज़हर-आब-दादा रखते हैं

अदब ने सौंपी हमें सुर्मा-साइ-ए-हैरत
ज़-बन-ए-बस्ता-ओ-चश्म-ए-कुशादा रखते हैं

हाँ दिल-ए-दर्दमंद ज़म-ज़मा साज़
क्यूँ न खोले दर-ए-ख़ज़िना-ए-राज़

ख़ामे का सफ़्हे पर रवाँ होना
शाख़-ए-गुल का है गुल-फ़िशाँ होना

मुझ से क्या पूछता है क्या लिखिये
नुक़्ता हाये ख़िरदफ़िशाँ लिखिये

बारे, आमों का कुछ बयाँ हो जाये
ख़ामा नख़्ले रतबफ़िशाँ हो जाये

आम का कौन मर्द-ए-मैदाँ है
समर-ओ-शाख़, गुवे-ओ-चौगाँ है

ताक के जी में क्यूँ रहे अर्माँ
आये, ये गुवे और ये मैदाँ!

आम के आगे पेश जावे ख़ाक
फोड़ता है जले फफोले ताक

न चला जब किसी तरह मक़दूर
बादा-ए-नाब बन गया अंगूर

ये भी नाचार जी का खोना है
शर्म से पानी पानी होना है

मुझसे पूछो, तुम्हें ख़बर क्या है
आम के आगे नेशकर क्या है

न गुल उस में न शाख़-ओ-बर्ग न बार
जब ख़िज़ाँ आये तब हो उस की बहार

और दौड़ाइए क़यास कहाँ
जान-ए-शीरीँ में ये मिठास कहाँ

जान में होती गर ये शीरीनी
'कोहकन' बावजूद-ए-ग़मगीनी

जब तक दहान-ए-ज़ख़्म न पैदा करे कोई 
मुश्किल कि तुझ से राह-ए-सुख़न वा करे कोई 

आलम ग़ुबार-ए-वहशत-ए-मजनूँ है सर-ब-सर 
कब तक ख़याल-ए-तुर्रा-ए-लैला करे कोई

अफ़सुरदगी नहीं तरब-इनशा-ए इलतिफ़ात
हां दरद बन के दिल में मगर जा करे कोई

रोने से अय नदीम मलामत न कर मुझे
आख़िर कभी तो `उक़दह-ए दिल वा करे कोई

चाक-ए-जिगर से जब रह-ए पुरसिश न वा हुई
कया फ़ाइदा कि जेब को रुसवा करे कोई

लख़त-ए जिगर से है रग-ए हर ख़ार शाख़-ए-गुल
ता चनद बाग़-बानी-ए सहरा करे कोई

ना-कामी-ए निगाह है बरक़-ए नज़ारा-सोज़
तू वह नहीं कि तुझ को तमाशा करे कोई

हर सनग-ओ-ख़िशत है सदफ़-ए गौहर-ए-शिकस्त
नुक़सां नहीं जुनूं से जो सौदा करे कोई

सर-बर हुई न व`दह-ए सबर-आज़मा से `उमर
फ़ुरसत कहां कि तेरी तमनना करे कोई

है वहशत-ए तबी`अत-ए ईजाद यास-ख़ेज़
यह दरद वह नहीं कि न पैदा करे कोई

बे-कारी-ए-जुनूं को है सर पीटने का शग़ल
जब हाथ टूट जाएं तो फिर कया करे कोई

हुसन-ए फ़ुरोग़-ए शम-ए सुख़न दूर है असद
पहले दिल-ए-गुदाख़ता पैदा करे कोई

--
वहशत कहां कि बे-ख़वुदी इनशा करे कोई
हसती को लफ़ज़-ए-मानी-ए-अनक़ा करे कोई

जो कुछ है महव-ए-शोख़ी-ए-अबरू-ए यार है
आंखों को रख के ताक़ पह देखा करे कोई

अरज़-ए-सिरिशक पर है फ़ज़ा-ए ज़माना तंग
सहरा कहां कि दावत-ए-दरया करे कोई

वह शोख़ अपने हुस्न पह मग़रूर है असद
दिखला के उस को आइना तोड़ा करे कोई

ख़ुश हो ऐ बख़्त कि है आज तेरे सर सेहरा
बाँध शहज़ादा जवाँ बख़्त के सर पर सेहरा

क्या ही इस चाँद-से मुखड़े पे भला लगता है
है तेरे हुस्ने-दिल अफ़रोज़ का ज़ेवर सेहरा

सर पे चढ़ना तुझे फबता है पर ऐ तर्फ़े-कुलाह
मुझको डर है कि न छीने तेरा लंबर सेहरा

नाव भर कर ही पिरोए गए होंगे मोती
वर्ना क्यों लाए हैं कश्ती में लगाकर सेहरा

सात दरिया के फ़राहम किए होंगे मोती
तब बना होगा इस अंदाज़ का ग़ज़ भर सेहरा

रुख़ पे दूल्हा के जो गर्मी से पसीना टपका
है रगे-अब्रे-गुहरबार सरासर सेहरा

ये भी इक बेअदबी थी कि क़बा से बढ़ जाए
रह गया आन के दामन के बराबर सेहरा

जी में इतराएँ न मोती कि हमीं हैं इक चीज़
चाहिए फूलों का भी एक मुक़र्रर सेहरा

जब कि अपने में समावें न ख़ुशी के मारे
गूँथें फूलों का भला फिर कोई क्योंकर सेहरा

रुख़े-रौशन की दमक गौहरे-ग़ल्ताँ की चमक
क्यूँ न दिखलाए फ़रोग़े-मह-ओ-अख़्तर सेहरा

तार रेशम का नहीं है ये रगे-अब्रे-बहार
लाएगा ताबे-गिराँबारि-ए गौहर सेहरा

हम सुख़नफ़हम हैं ‘ग़ालिब’ के तरफ़दार नहीं
देखें इस सेहरे से कह दे कोई बढ़कर सेहरा