हवा के हाथ पैगाम भेजा है
रौशनी के जरिये एक अरमान भेजा है
फुरसत मिले तो कबूल कर लेना इस नाचीज़ को
रंगों के त्यौहार का प्यार भेजा है

Related Holi Shayari :