रुसवाई का डर है... या अंधेरों से मोहब्बत, 
अब चाँद को मैं आँगन में उतरने नहीं देता।

Related Hindi Shayari :