बचपन में मिलते थे पूरे रमजान,
अम्मी की दी सेहरी से करते थे शुरूआत,
धूम धड़का होता था दोस्तों के साथ,
आज भी याद हैं ईद की वो हर इक रात.

Related Eid Shayari :