हम कुछ नये अंदाज में मनाते हैं ईद,
अपनी खुशियों को भूलकर, 
सबका दर्द लेते हैं ख़रीद.

Related Eid Shayari :