याद आता है अक्सर वो गुज़रा हुआ ज़माना,
तेरी मीठी सी आवाज़ में भाई कहकर बुलाना,
वो सुबह स्कूल के लिए तेरा मुझको जगाना,
अब क्या करे बहना यही है ज़िन्दगी का तराना।

Related Bhai Behan Shayari :